Showing posts from September, 2021Show All
जिन पे अजल तारी थी / अकबर हैदराबादी
जब सुब्ह की दहलीज़ पे / अकबर हैदराबादी
हाँ यही शहर मेरे ख़्वाबों / अकबर हैदराबादी
घुटन अज़ाब-ए-बदन की / अकबर हैदराबादी
फ़ित्ने अजब तरह के / अकबर हैदराबादी
दूर तक बस इक धुंदलका / अकबर हैदराबादी
दिल दबा जाता है कितना / अकबर हैदराबादी
बस इक तसलसुल / अकबर हैदराबादी
बदन से रिश्ता-ए-जाँ / अकबर हैदराबादी
आँख में आँसू का / अकबर हैदराबादी
हर क़दम कहता है तू आया है जाने के लिए / अकबर इलाहाबादी
चर्ख़ से कुछ उम्मीद थी ही नहीं / अकबर इलाहाबादी
ग़म्ज़ा नहीं होता के / अकबर इलाहाबादी
हूँ मैं परवाना मगर / अकबर इलाहाबादी
जहाँ में हाल मेरा / अकबर इलाहाबादी
Load More That is All