Showing posts from July, 2019Show All
बज़ाहिर प्यार की दुनिया में जो नाकाम होता है / अदम गोंडवी
भुखमरी की ज़द में है या दार के साये में है / अदम गोंडवी
आँख पर पट्टी रहे और अक़्ल पर ताला रहे / अदम गोंडवी
जो डलहौज़ी न कर पाया वो ये हुक़्क़ाम कर देंगे / अदम गोंडवी
मैं चमारों की गली तक ले चलूँगा आपको / अदम गोंडवी
एहसास में शिद्दत है वही, कम नहीं होती / अकील नोमानी
जो कहता था हमारा सरफिरा दिल, हम भी कहते थे / अकील नोमानी
हर शाम सँवरने का मज़ा अपनी जगह है / अकील नोमानी
महाजे़-जंग पर अक्सर बहुत कुछ खोना पड़ता है / अकील नोमानी
टूटी हुई शबीह की तस्ख़ीर क्या करें / अकरम नक़्क़ाश
कुछ फ़ासला नहीं है अदू और शिकस्त में / अकरम नक़्क़ाश
हैरत से देखता हुआ चेहरा किया मुझे / अकरम नक़्क़ाश
ब-रंग-ए-ख़्वाब मैं बिखरा रहूँगा / अकरम नक़्क़ाश
Load More That is All