जो कहता था हमारा सरफिरा दिल, हम भी कहते थे / अकील नोमानी

जो कहता था हमारा सरफिरा दिल, हम भी कहते थे 
कभी तनहाइयों को तेरी महफ़िल, हम भी कहते थे

हमें भी तजरिबा है कुफ्र की दुनिया में रहने का 
बुतों के सामने अपने मसाइल हम भी कहते थे 

यहाँ इक भीड़ अंजाने में दिन कहती थी रातों को 
उसी इक भीड़ में हम भी थे शामिल, हम भी कहते थे