हर शाम सँवरने का मज़ा अपनी जगह है / अकील नोमानी

हर शाम सँवरने का मज़ा अपनी जगह है 
हर रात बिखरने का मज़ा अपनी जगह है

खिलते हुए फूलों की मुहब्बत के सफ़र में 
काँटों से गुज़रने का मज़ा अपनी जगह है

अल्लाह बहुत रहमों-करम वाला है लेकिन 
लेकिन अल्लाह से ड़रने का मजा अपनी जगह है